UPSC Success Story: कैंसर से जूझ रहे थे पिता, बेटी ने पास कर दिखाई आईएएस की परीक्षा

0
425

जब सिविल सेवा परीक्षा (CSE) के परिणाम घोषित किए गए थे तब “मैं अपने पिता के साथ अस्पताल में थी, जो पिछले कुछ वर्षों से कैंसर से जूझ रहे थे।”

“मैं जिस स्थान से संबंधित हूं, वह बहुत सीमित बुनियादी ढांचे और संसाधनों से छोटा है। जब भी मेरे पिता अस्वस्थ होते तो हमें उनका इलाज करवाने के लिए लुधियाना ले जाना पड़ता था।

द बेटर इंडिया के साथ इस बातचीत में, रितिका इस बारे में बताती हैं कि जिस समय उनके पिता का इलाज चल रहा था, उस समय वह यूपीएससी की तैयारी करने में कैसे कामयाब रहीं, और किस बात ने उनके ध्यान केंद्रित करने में मदद की।

पंजाब के मोगा की रहने वाली रितिका ने आईएएस की परीक्षा में पूरे भारत में 88वां रैंक प्राप्त किया है। उन्होंने ये उपलब्धि तब हासिल कर दिखाई है जब उनके पिता लुधियाना के अस्पताल में कैंसर से जूझ रहे हैं।

upsc-topper-ritika-jindal-success-story

परीक्षा की तैयारी में मदद करने वाले निजी शैक्षणिक संस्थान के एमके यादव ने बताया कि रितिका को हमेशा सफलता हासिल करने की ललक रही है। वह 12वीं में सीबीएसई टॉपर भी रह चुकी हैं। रितिका ने स्नातक की पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से की है। यहां भी उन्होंने टॉप किया था।

कॉलेज के अच्छे प्लेसमेंट ऑफर को ठुकराकर उन्होंने आईएएस बनने का फैसला किया था। दूसरी बार की गई कोशिश में उन्हें यह सफलता मिली है।

जब रितिका से उनकी सफलता का श्रेय किसे देंगी पूछा गया तब उन्होंने बिना झिझकते हुए अपने पिता का नाम लिया। रितिका अपने पिता के बहुत करीब रही हैं और वे एक मिडिल क्लास फैमिली को बिलॉन्ग करती हैं फिर भी इस मुकाम पर पहुंच गईं। रितिका के मुताबिक उनके पिता ने उन्हें कभी इस बात का एहसास नहीं होने दिया कि उनके पास ज्यादा रुपये नहीं है उनके पिता ने उनकी हर जरूरत का ख्याल रखा और अब वे अपने पिता का अच्छे से इलाज करवाएंगी।

UPSC Success Story

SubjectDownload Link
EnglishClick Here
HistoryClick Here
General KnowledgeClick Here
ComputerClick Here
General ScienceClick Here



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.